गौरवशाली भारत

देश की उम्मीद ‎‎‎ ‎‎ ‎‎ ‎‎ ‎‎

अखिलेश उतर सकते हैं कन्नौज के चुनावी रण में

लखनऊ : भतीजे तेज प्रताप यादव का नाम कन्नौज संसदीय क्षेत्र से गठबंधन प्रत्याशी के तौर पर घोषित करने के बावजूद समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव के कन्नौज से उतरने की संभावना यथावत बनी हुयी हैं। यादव ने बुधवार को पत्रकारों से बातचीत में खुद के चुनाव में उतरने की अटकलों को हवा देते हुये कहा “ आप लोगों को नामांकन में कन्नौज में गठबंधन प्रत्याशी के नाम के बारे में पता चल जायेगा। हो सकता है कि इससे पहले भी पता चल जाये।
पत्रकारों ने सपा अध्यक्ष से उनके कन्नौज लोकसभा सीट से प्रत्याशी के तौर पर उतरने की संभावना को लेकर सवाल किया था जिस पर श्री यादव ने कहा “ कन्नौज की जनता भाजपा को हराने का मन बना चुकी है। भाजपा इस चुनाव में इतिहास बनने जा रही है। रही बात प्रत्याशी की तो वह आपको नामांकन के दौरान पता चल जायेगा मगर इतना तय है कि पीडीए एनडीए को हराने जा रहा है।”
इस बीच भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) प्रत्याशी और मौजूदा सांसद सुब्रत पाठक ने चुनौती भरे लहजे में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को कन्नौज में चुनाव लड़ने की सलाह देते हुये कहा कि अखिलेश के अलावा इंडिया गठबंधन में कोई भी कन्नौज से चुनाव लड़ेगा तो उसकी जमानत जब्त हो जायेगी। अखिलेश के कन्नौज से उतरने से लड़ाई बराबर की हो जायेगी। गौरतलब है कि सपा ने अखिलेश यादव के भतीजे और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) संस्थापक लालू प्रसाद यादव के दामाद तेज प्रताप यादव को कन्नौज सीट से प्रत्याशी घोषित किया है।

Leave a Reply