गौरवशाली भारत

देश की उम्मीद ‎‎‎ ‎‎ ‎‎ ‎‎ ‎‎

भारत-रवांडा संयुक्त रक्षा सहयोग समिति की बैठक

नई दिल्ली : भारत और रवांडा के बीच रक्षा संबंधों को मजबूत बनाने तथा प्रशिक्षण सहयोग, संयुक्त सैन्य अभ्यास और रक्षा औद्योगिक क्षेत्र में सहयोग बढाने पर चर्चा के लिए भारत-रवांडा संयुक्त रक्षा सहयोग समिति की पहली बैठक हुई। दोनों देशों के प्रतिनिधिमंडलों के बीच रवांडा की राजधानी किगाली में गुरूवार को हुई बैठक में प्रशिक्षण सहयोग, संयुक्त सैन्य अभ्यास, रक्षा औद्योगिक सहयोग आदि क्षेत्रों पर विस्तृत चर्चा हुई। भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने मित्र देशों को निर्यात के लिए भारतीय रक्षा निर्माताओं की बढ़ती क्षमता पर प्रकाश डाला।
रवांडा पक्ष ने भारतीय रक्षा उद्योग की बढ़ती क्षमताओं पर विश्वास व्यक्त करते हुए प्रशिक्षण सहयोग बढ़ाने में गहरी रुचि दिखाई। रवांडा पक्ष ने उन क्षेत्रों पर प्रकाश डाला जहां 2018 में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की रवांडा यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच हस्ताक्षरित रक्षा समझौता ज्ञापन के तहत भारतीय सशस्त्र बल और उद्योग अपने रक्षा बलों के साथ सहयोग कर सकते हैं।
इससे पहले भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने रवांडा के रक्षा मंत्री मारिजामुंडा जुवेनल से मुलाकात की और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की ओर से शुभकामनाएं दीं। भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व संयुक्त सचिव अमिताभ प्रसाद ने किया और इसमें रक्षा मंत्रालय और भारतीय सशस्त्र बलों के वरिष्ठ अधिकारी शामिल थे। किगाली में भारतीय मिशन में प्रभारी राजदूत नीलरतन मृधा भी बैठक में शामिल हुए।
भारत और रवांडा के बीच द्विपक्षीय संबंध सौहार्दपूर्ण रहे हैं और पिछले कुछ वर्षों में इनमें लगातार वृद्धि हुई है। इस बैठक के लिए भारतीय प्रतिनिधिमंडल के दौरे से रवांडा के साथ रक्षा संबंध और मजबूत होने की संभावना है।

Leave a Reply