गौरवशाली भारत

देश की उम्मीद ‎‎‎ ‎‎ ‎‎ ‎‎ ‎‎

केजरीवाल को राजनीतिक साजिश के तहत किया गिरफ्तार

नई दिल्ली : आतिशी ने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की गिरफ़्तारी भारतीय जनता पार्टी की एक राजनैतिक साज़िश है। आप की वरिष्ठ नेता आतिशी ने मुख्यमंत्री की सुरक्षा को लेकर चिंता जताते हुए कहा कि देश में पहली बार एक पद पर रहते हुए मुख्यमंत्री को गिरफ्तार किया गया है। मुख्यमंत्री को जेड श्रेणी की सुरक्षा है। सवाल यह है कि अब उनकी सुरक्षा के लिए कौन ज़िम्मेदार है? वह प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के ऑफिस में है। वहां कौन जा रहा है? क्या लेकर जा रहा है? इसके लिए कौन ज़िम्मेदार होगा? ऐसे में केंद्र जबाव दे कि क्या ईडी की हिरासत में अरविंद केजरीवाल को पर्याप्त सुरक्षा मिल रही है?
उन्होंने कहा कि श्री अरविंद केजरीवाल की गिरफ़्तारी भाजपा की एक राजनैतिक साज़िश है। ईडी का इस्तेमाल कर एक राष्ट्रीय दल के संयोजक को ऐसे केस में गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें दो साल की जांच के बाद भी एक रुपए की रिकवरी नहीं हुई है और न तो ईडी आज तक कोर्ट के सामने कोई भी सबूत दिखा पाई है। यह पूरी तरह राजनीति साज़िश है।
आप नेता ने कहा कि श्री अरविंद केजरीवाल की यह गिरफ्तारी सिर्फ़ और सिर्फ़ भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डर को दिखाता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा को यह लगता है कि देश में कोई एक नेता है जो उन्हें चुनौती दे सकता है तो उस नेता का नाम अरविंद केजरीवाल है। इसलिए भाजपा और प्रधानमंत्री मोदी जी हर संभव कोशिश कर रहे है कि वह आम आदमी पार्टी और अरविंद केजरीवाल को कुचल दे। एक के बाद एक ‘आप’ के सभी शीर्ष नेताओं को झूठे आरोपों में भाजपा की राजनैतिक हथियार बन चुकी ईडी द्वारा गिरफ़्तार किया जा रहा है।
सुश्री आतिशी ने भाजपा से कहा कि श्री अरविंद केजरीवाल सिर्फ़ एक मुख्यमंत्री और एक नेता नहीं है, बल्कि श्री केजरीवाल एक विचार हैं, एक प्रेरणा है। श्री केजरीवाल वह व्यक्ति है जो अपनी आईआरएस की नौकरी छोड़ कर इस देश के लोकतंत्र और संविधान को बचाने के लिए सड़क पर उतर पड़े। उन्होंने कहा कि आज श्री केजरीवाल को चुनाव से ठीक पहले गिरफ़्तार किया गया है। उन्हें चुनाव में प्रचार करने से रोकने के लिए गिरफ़्तार किया है। एक केजरीवाल को गिरफ़्तार करेंगे तो हज़ारों केजरीवाल इस देश के संविधान और लोकतंत्र को बचाने के लिए सड़कों पर उतरेंगे। भाजपा ने लोकतंत्र को कुचलने के लिए एक के बाद एक विपक्ष के सभी नेताओं को निशाना बनाया है।
उन्होंने कहा कि ईडी-केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से डराकर-धमकाकर कंपनियों से इलेक्ट्रॉल बॉण्ड द्वारा हज़ारों करोड़ों की उगाही की गई। एक तरफ हेमंत सोरेन की गिरफ़्तारी होती है तो दूसरी तरफ़ कांग्रेस का बैंक अकाउंट फ्रीज होता है। ये आने वाले लोकसभा चुनावों की प्रभावित करने का तरीक़ा है। विपक्ष को ख़त्म करने का तरीक़ा है।

Leave a Reply