गौरवशाली भारत

देश की उम्मीद ‎‎‎ ‎‎ ‎‎ ‎‎ ‎‎

लोसार से काजा मार्ग को भी पांच दिनों में खोल दिया जाएगा

केलांग : हिमाचल प्रदेश के जनजातीय क्षेत्र स्पिति खंड में भारी हिमपात के कारण बाधित हुए मार्गों को बहाल करने का कार्य लोक निर्माण विभाग तीव्र गति से कर रहा है। आपदा में लोक निर्माण विभाग काजा के पास 156 छोटे बड़े मार्ग पंजीकृत है। अभी तक रंगरीक पुल से किब्बर मार्ग, चिचिम वाय पास मार्ग, संपर्क मार्ग कीह मठ, काजा से लांगजा मार्ग, पोह से निदांग पोमरंग मार्ग, शिचलिंग माने रोड़, षिचलिंग ढखंर मार्ग, लिंगटी रामा मार्ग़, रामा से लालूंग मार्गद्व गुलिंग कुंगरी मार्ग, शिचलिंग ढंखर मार्ग और काजा लोकल की सड़के बहाल कर दी गई है।
इसके साथ ही अभी तक ताजिंत हिक्किम मार्ग, लांगचा से कॉमिक मार्ग, कोमिक से डेमुल मार्ग, लोसर से क्यामो मार्ग, क्याटो से चिचिम किब्बर मार्ग, क्यूलिंग से रंगरीक मार्ग, रांगटांग से क्वांग मार्ग, ढंखर लालूंग डेमूल, कॉमिक मार्ग, ग्यू मार्ग, तेंलिग तुदनम यान्सा मार्ग, तेलिंग से खर मार्ग, कुगंरी से थूकतन मार्ग, मिक्किम कुंगरी, अप्पर गुलिंग भर मार्ग, सेंलिग भर मार्ग, छिदांग तंगती योग्मा और गोग्मा मार्ग, , काह से फुकचुक मिन्सा मार्ग, किया नाला मार्ग, संपर्क मार्ग चंद्रताल, संपर्क मार्ग छिदांग, रंगरीक से नाह संपर्क मार्ग, संपर्क मार्ग पांगमो , संपर्क मार्ग खुरिक, संपर्क मार्ग खुरिक, संपर्क मार्ग मुन्सेलिंग स्कूल से रंगरीक शामिल है।
एडीसी राहुल जैन ने बताया कि इस बार में पिछले कई सालों की तुलना में अधिक हिमपात हुआ है। लोक निर्माण विभाग के आधीन आने वाले मार्गों को बहाल करने का कार्य तीन मार्च से निंरतर चला हुआ है। हिमपात के दौरान यहां पर फंसे हुए 200 से अधिक लोगों को काजा समुदो मार्ग लोक निर्माण विभाग की जेसीबी के माध्यम से बहाल करवाकर भेजा गया। इसके साथ ही बीआरओ को तुरंत रंगरीक से लोसर मार्ग को बहाल करने के लिए आदेश दिए गए है। लोसर से क्योटो तक बीआरओ की जेसीबी तक मार्ग बहाल कर दिया है। इसके साथ रांगरिक मुरांग तक भी मार्ग बहाल हो गया है। लोसार से काजा मार्ग को भी पांच दिनों तक खोल दिया जाएगा।
लोक निर्माण विभाग ने पांच डोजर, तीन निजी जेसीबी औ तीन विभाग की जेसीबी, चार कैंपर गाड़ियां और दो डिप्पर तैनात किए है। कई जगह पर बार बार ग्लेशियर आ रहे हैं। लोक निर्माण विभाग ने पिन घाटी का तेलिंग तक बहाल कर दिया। मुद तक मार्ग बहाली का काम अगले चार दिनों में लक्ष्य निर्धारित किया हुआ है।

Leave a Reply