गौरवशाली भारत

देश की उम्मीद ‎‎‎ ‎‎ ‎‎ ‎‎ ‎‎

देश में अघोषित आपातकाल जैसी परिस्थिति’

नई दिल्ली : अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी के बाद शुक्रवार को आम आदमी पार्टी(आप) के कार्यकर्ताओं ने यहां प्रदर्शन किया और कुछ नेताओं तथा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया। कार्यकर्ताओं ने सुबह से ही पार्टी मुख्यालय पहुंचने की कोशिश की जिन्हें पुलिस ने जगह-जगह रोक दिया। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने केजरीवाल की गिरफ्तारी का विरोध करते हुए भाजपा और मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। पुलिस ने जगह-जगह पार्टी के वरिष्ठ नेताओं, मंत्रियों, विधायकों और पार्षदों के साथ कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया।
‘आप’ के राष्ट्रीय संगठन महासचिव एवं राज्यसभा सदस्य डॉ. संदीप पाठक ने कहा,“ आज देश में एक अघोषित आपातकाल जैसी परिस्थिति पैदा हो गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा सभी विपक्षी दलों को खत्म करने के लिए उनके नेताओं को या तो जेल में डाल रही है या फिर उनको डरा-धमका कर अपनी पार्टी में शामिल करा रही है। विपक्षी दलों के जो भी नेता भाजपा में शामिल हो रहे हैं, उनको तो क्लीन चिट मिलते जा रही है। लेकिन जो भी नेता भाजपा की तानाशाही का विरोध कर रहे हैं उन पर अन्याय, अत्याचार हो रहा है और उनको गिरफ्तार किया जा रहा है।”
डॉ. पाठक ने कहा,“ केजरीवाल की गिरफ्तारी के विरोध में आम आदमी पार्टी ने शांतिपूर्ण तरीके से विरोध-प्रदर्शन का एलान किया था लेकिन भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) जिस तरह से पुलिस का दुरुपयोग कर रही है, वह अकल्पनीय है। ऐसा भारत के राजनैतिक इतिहास में शायद ही पहले कभी हुआ होगा। भाजपा के खिलाफ धरना-प्रदर्शन के एलान के बाद आम आदमी पार्टी के कई नेताओं को गुरुवार रात से घर में नजरबंद कर दिया गया है। वहीं, पार्टी के जो लोग सुबह-सुबह अपने घर से आम आदमी पार्टी के ऑफिस के लिए निकल रहे थे, उनको हिरासत में ले लिया गया।”
उन्होंने कहा,“ शांतिपूर्वक तरीके से धरना देना हमारा मूलभूत अधिकार है लेकिन प्रधानमंत्री को शांतिपूर्ण तरीके से धरना देना भी बर्दास्त नहीं होता है। उनके मन में इतनी नफरत भरी पड़ी है कि आम आदमी पार्टी के एक-एक कार्यकर्ता, नेता को गिरफ्तार करवा रहे हैं।”
कैबिनेट मंत्री गोपाल राय ने कहा,“ यह जिस तरह का व्यवहार किया जा रहा है, उससे लगता है कि इन्होंने सचमुच देश के अंदर तानाशाही घोषित कर दी है। ऐसी खबर मिल रही है कि पार्टी कार्यालय को भी चारों तरफ से सील कर दिया गया है। अरविंद केजरीवाल के परिवार को भी नज़रबंद कर लिया गया है, किसी को भी आने जाने नहीं दिया जा रहा है।
विरोध में प्रदर्शन में शामिल होने जा रहे दिल्ली सरकार में कैबिनेट मंत्री सौरभ भारद्वाज को पुलिस ने हिरासत में ले लिया।”
उन्होंने कहा,“ देश में पूरी तरह से गुंडागर्दी चल रही है। केजरीवाल के परिवार वालों को घर में नजरबंद किया हुआ है। उनकी मां एक दिन पहले ही अस्पताल से आई थीं और उनके बेटे को गिरफ्तार कर लिया गया। उनके परिवार वालों को किसी से मिलने नहीं दिया जा रहा। आइटीओ में जाने नहीं दिया जा रहा है और शांतिपूर्ण धरने को रोका जा रहा है। आइटीओ जाने की कोशिश करने पर पुलिस वाले हमको उठा कर फेंक रहे हैं। केवल लोकसभा चुनाव जीतने के लिए इस तरह की तानाशाही का जा रही है।”
‘आप’के वरिष्ठ नेता जस्मीन शाह ने कहा कि एक फर्जी केस में पार्टी के चार बड़े नेताओं को जेल में डाल दिया गया है। अरविंद केजरीवाल के परिवार को कल रात से ही नज़रबंद कर रखा गया है। अब आम आदमी पार्टी के मंत्रियों और नेताओं को हिरासत में लिया गया है। यह तानाशाही नहीं तो और क्या है?”

Leave a Reply